JADKHOR GODHAM

ॐ नमोगोभ्यः

श्री वृज कामद सुरभि वन एवं शोध संस्थान

जड़खोर

श्री मलूकपीठाधीश्वर जगदगुरु द्वाराचार्य श्री राजेन्द्रदास देवाचार्य जी महाराज एवं गो सेवी संत महापुरुषों के संरक्षण में श्री व्रज कामद सुरभि वन एवं शोध संस्थान की जड़खोर गोशाला का संचालन चल रहा है । इस समय गोशाला में करीब ५००० निराश्रित गो वंश को संरक्षण मिल रहा है, जिनमें से अधिकांश गोवंश बीमार अथवा कसाइयों से बचाया गया है ।

गोवंश के रहने के लिए २००० फुट लम्बे २८ फुट चौड़े गो ग्रहों का, भूसा संग्रह हेतु १०,००० मन की क्षमता वाली वेव ब्रीज का एवं वानप्रस्थि, संत एवं ग्वाल कुटियाओं का

निर्माण हुआ है। पूजनीय गोमाता का महत्व एवं उनमें भी श्री व्रज क्षेत्र की गाय का महत्व शब्दो में वर्णन नहीं किया जा सकता

गोमाताओ के आवास के लिए २८ फ़ीट चौड़े २००० फ़ीट लम्बे गो ग्रहों का, १३००० फ़ीट के भूसाघर , ग्वाल रसोई, चार-चार कमरो की दो संत कुटियाओं , दो-दो कमरो की दो कुटिया वानप्रस्थियों के लिए , तीन लाख लीटर की ५० फ़ीट ऊंची पानी की टंकी का निर्माण हो चूका है । इसके अतिरिक्त २००० फ़ीट की वैष्णव रसोई , ३२०० फ़ीट के भण्डारण एवं १५ कमरो का निर्माण हो चूका है । व्यापक रूप से वृक्षारोपण भी किया गाय है । वृद्ध एवं असहाय गोवंश के परिवहन हेतु गो-एम्बुलेंस भी लायी गयी है । तीन फेज के दो इलेक्ट्रिक कनेक्शन भी लिए गए है । गोशाला को आम रस्ते से जोड़ने के लिए किसानों से भूमि का क्रय करके राजस्थान सर्कार को सौंपकर गोशाला के गेट तक पक्की सड़क भी बन गयी है ।

संत महापुरुषों के इस वृहद संकल्पानुसार गो संरक्षण एवं संवर्धन के पुनीत कार्य को गति प्रदान करने के लिए अभी हजारों मीटर गो ग्रहों का , भुस गोदामो का , भंडारणों का , ग्वाल ग्रहों का , संत कुटियायों आदि का निर्माण करना है एवं बहुत सी जमीन का क्रय भी करना है । सभी उदार एवं गो प्रेमी भक्तो का हम आहवान करते है की वे इस पुनीत कार्य के लिए आगे आवें व ज्यादा से ज्यादा अपने तन, मन, धन से सहयोग करे । इस वन की स्थापना देहली से १३० की.मी. , गिर्राज जी से २८ की.मी. तथा बरसाना से २६ की.मी. दूर सौगन्धिनी शिला के निकट (जहाँ ठाकुर जी ने श्री श्री राधा के समक्ष व्रज से एक कदम भी बाहर न जाने की सौगंध खाई थी ) संतो द्वारा चिन्हित श्री व्रज चौरासी कोस में श्री कामवन के अंतर्गत प्रतिज्ञा वन में हुई है जहाँ हजारों बीघा प्रकृति प्रदत्त जंगल एवं पहाड़ अवस्थित है ।

GET INVOLVED AND DELIVER A MIRACLE TO SOMEONE IN NEED