श्री जड़खोर गोधाम

Shri Jadkhor Godham

सर्वं गोमयं जगत

श्री वृज कामद सुरभि वन एवं शोध संस्थान

 संपूर्ण भारतीय संस्कृति का मूल आधार गोमाता ही है । और भारतवर्ष का अस्तित्व भी गो पर ही आधारित है । गोवंश भारत की कृषि और अर्थव्यवस्था का मेरुदंड है, उसकी सेवा और रक्षा प्रत्येक नागरिक का परमधर्म है । आप विश्वास कीजिए – “गाय बचेगी तो देश बचेगा ” । आज इस समय पृथ्वी को सुशोभित करने में इन सात की मुख्य भूमिका है ।

आओ एक बदलाव लाए!

DONATE NOW    Become Volunteer

ONGOING EVENTS OF SHRI RAJENDRA DAS JI MAHARAJ

: शरणम् । जय गोमाता । जय गोपाल ।

17 March to 23 March

प्रातः 9.30 बजे से अपरान्ह 1 बजे

UPCOMING EVENTS IN SADGURU JANM SHATABDI AND GOSEVA MAHOTSAV

श्री जड़खोर गोधाम

श्री वृज कामद सुरभि वन एवंसंस्थान

ॐ नमो गोभ्यः |

व्रज कामद सुरभि वन एवं शोध संस्थान की स्थापना गोऋषि परम पूज्य स्वामी श्री दत्तशरणानंद जी महाराज, पथमेड़ा,परम पूज्य महामंडलेश्वर कार्ष्णि स्वामी श्री गुरुशरणानंद जी महाराज,परम पूज्य श्री किशोरदास देव जी महाराज, गोरीलाल कुञ्ज,श्रीधाम वृन्दावन, परम पूज्य  गीता मनीषी ज्ञानानंद जी महाराज एवं महामंडलेश्वर परम पूज्य श्री रामप्रवेशदास  जी महाराज, बारह घाट, श्री धाम वृन्दावन की पावन प्रेरणा से परमपूजनीय श्रीमज्जगद्गुरु द्वाराचार्य मलूकपीठाधीश्वर श्री राजेंद्रदास देवाचार्य जी महाराज के संरक्षण में हुई है | इस सुरभि वन का एकमात्र उद्देश्य सम्पूर्ण व्रज के गोवंश का संरक्षण एवं संवर्धन करना है | यह स्थल भगवान् श्रीकृष्ण की लीला भूमि ब्रज चौरासी में स्थित है | संतों की ऐसी मान्यता है की यह वही स्थल है जहाँ पर द्वापर युग में प्राणाराध्य ठाकुर श्रीकृष्ण-बलराम ने गोचारण किया था|

OUR CAUSES

गोमाता को प्राकृतिक आवास
उपलब्ध कराने हेतु सघन वृक्षारोपण

वेतन भोगी गोपालक कर्मचारी 

गोवंश का सर्वधन 

SO FAR WE’VE ACHIEVED

गौसेवक

साधु

गायों की संख्या

दाता

LATEST EVENTS

Safe & Secure Online Transaction by

LATEST NEWS

हरि: शरणम् ।
आज की कथा के प्रारम्भ में श्रीव्यासपीठासीन गुरुवर की आज्ञा पर श्रीमहाराजजी ने भी अपना वक्तव्य दिया ।
कथा आस्था चैनल पर प्रात: 9 से अपरान्ह 12 तक लाइव है ।
जय गोमाता जय गोपाल ।
... See MoreSee Less

View on Facebook

हरि: शरणम् ।
आज की कथा में श्रीमहाराजजी ने श्रीपाण्डव वंशावली एवं श्रीद्रौपदी एवं श्रीउत्तरा चरित्र का वर्णन किया ।
कथा के अंतिम चरण में राजस्थान की माननीया मुख्यमंत्री श्रीवसुन्धरा राजे सिंधिया ने आकर श्रीव्यासपीठासीन श्रीमहाराजजी एवं श्री मलूकपीठाधीश्वर जी महाराज का आशीष प्राप्त किया ।
जय गोमाता जय गोपाल ।
... See MoreSee Less

View on Facebook

हरि: शरणम् ।
आज सायंकालीन रासलीला सत्र में श्रीगोपाल मणि जी महाराज श्रीसद्गुजन्म शताब्दी महोत्सव में श्रीजड़खोर गोधाम पधारे ।

रासलीला दर्शन एवं आरती के पश्चात श्रीमहाराजजी ने उन्हें श्रीसद्गुरुदेव श्रीभक्तमाली जी महाराज का स्मृति ग्रन्थ एवं अन्य ग्रन्थावली भेंट की तथा गोसेवा अभियान सम्बन्धी चर्चा की ।

जय गोमाता जय गोपाल ।
... See MoreSee Less

View on Facebook

हरि: शरणम् ।
श्रीजड़खोर गोधाम में आज प्रथम दिवस की कथा में श्रीमज्जगद्गुरु शंकराचार्य श्रीश्री 1008 पुरी पीठाधीश्वर जी महाराज, श्रीमज्जगद्गुरु रामानुजाचार्य श्रीश्री 1008 श्रीचिन्नाजियार स्वामीजी महाराज, कथा व्यास श्रीमज्जगद्गुरु श्रीश्री रमणरेती वाले महाराजजी, श्रीगीता मनीषी श्रीज्ञानानन्द जी महाराज, श्रीवाराहघाट वाले श्रीमहाराजजी एवं स्वयं श्री मलूकपीठाधीश्वर महाराज जी का उद्बोधन हुआ ।

तदनन्तर श्रीमद्भागवत कथा का शुभारम्भ श्रीमहाराजजी द्वारा व्यासपीठ पूजन एवं आरती के साथ हुआ ।

कथा का लाइव प्रसारण आस्था चैनल पर प्रात: 9 बजे से शुरू होगा 21 से 27 फरवरी तक ।

जय गोमाता जय गोपाल ।
... See MoreSee Less

View on Facebook

हरि: शरणम् ।
श्री धाम रमणरेती - श्री गोपाल जयन्ती महोत्सव 87 वां वार्षिक उत्सव 2018 ।
जय गोमाता जय गोपाल ।
... See MoreSee Less

View on Facebook

REACH US

हवाई मार्ग से:-१. नजदीकी हवाई अड्डा दिल्ली,गोशाला से लगभग १३० किमी दूर से गुड़गांव ,सोहना,पलवल,कोसी,कामां होकर जड़खोर पहुँचा जा सकता है| २. जयपुर करीब २२५ किमी से दौसा , भरतपुर, डीग, खोह होते हुए गोशाला पहुंचा जा सकता है| रेल मार्ग से :१. निकटतम रेलवे स्टेशन से करीब १२ किलोमीटर २. कोसी से ३६ किलोमीटर ३. मथुरा से ५० किलोमीटर सड़क मार्ग से :१. जयपुर से १८० किमी भरतपुर, भरतपुरसे ३५ किमी डीग , डीग से खोह १० किमी और खोह से गोशाला ३ किमी२.दिल्ली से कोशी, कोसी से कामां और कामां से गोशाला